Now Reading
पूर्वांग और उत्तरांग

पूर्वांग और उत्तरांग

Avatar

सप्तक को दो बराबर भागो मे बाटने के लिए तार सा से जोड़ दिया गया 

सप्तक को स रे ग म प ध नि स दो हिस्सों मे बाट दिया गया

प्रथम भाग स रे ग म को पूर्वांग कहते है

दूरसे भाग प ध नि स को उत्तरांग कहते है 

विशेष कठिनाइयों के कारण पूर्वांग को स से प व् उत्तरांग को म से स तक बढ़ा दिया गया

जिस प्रकार सप्तक के दो हिस्से किये गए 

उसी प्रकार दिन के 24 घंटे के समय को भी दो भागो मे बाटा गया 12 घंटे के दो भाग

दिन के 12 बजे से लेके रात के 12 तक पहला भाग को पूर्वार्ध कहा  जाता है व् दूसरे को उत्तरार्ध कहा जाता है 

See Also

जो राग दिन के 12 बजे से रात 12 बजे तक गाये जाते है उन्हें पूर्व राग कहते है 

जो राग रात के 12 बजे से दिन के 12 बजे तक गाये जाते है उन्हें उत्तर राग कहते है

दिन मे 8 पहर होते है 3  घंटे के चार पूर्वांग के व् चार उत्तरांग के

राग के समय देख के पता लगाया जाता है की राग पूर्व राग है ये उत्तर राग है 

What's Your Reaction?
Excited
0
Happy
0
In Love
0
Not Sure
0
Silly
0
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top